Parent Handbook | अभिभावक विवरण पुस्तिका

3. शैक्षिक वक्तव्य - Academic Statement

'शैक्षिक गतिविधियों' का मतलब अरुचिकर कार्य, उबाऊ व्याख्यान, या रटना नहीं है। इसका मतलब कठिन परिश्रमप्रयोज्यता व्  बिना पर्यवेक्षण के स्वयं अध्ययन के उत्तरदायित्व को बढ़ाना है। राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा (2005) सुझाती है कि बच्चों के स्कूली जीवन को बाहर के जीवन से जोड़ा जाना चाहिए। यह सिद्धांत किताबी ज्ञान की उस विरासत के विपरीत है जिसके प्रभाववश हमारी व्यवस्था आज तक स्कूल और घर के बीच अंतराल बनाए हुए है। नई राष्ट्रीय पाठ्यचर्या पर आधारित पाठ्यक्रम और पाठ्यपुस्तकें इस बुनियादी विचार पर अमल करने का प्रयास है। इस प्रयास में हर विषय को एक मजबूत दीवार से घेर देने और जानकारी को रटा देने की प्रवृत्ति का विरोध् शामिल है। हम एक गतिविधि उन्मुख शिक्षा कार्यक्रम के माध्यम से हर बच्चे में स्कूल के लिए प्रेम को विकसित करने में विश्वास करते हैं। आशा है कि ये कदम हमें बाल-केंद्रित व्यवस्था की दिशा में काफी दूर तक ले जाएँगे।

‘Academics’ doesn’t mean drudgery, boring lectures, or rote learning. It does mean hard work, application, and increasing responsibility for self-study without supervision. The National Curriculum Framework (NCF), 2005, recommends that children’s life at school must be linked to their life outside the school. This principle marks a departure from the legacy of bookish learning which continues to shape our system and causes a gap between the school, home and community. The syllabi and other content developed on the basis of this principle signify an attempt to implement this basic idea. They also attempt to discourage rote learning and the maintenance of sharp boundaries between different subject areas. We believe in developing love for school in every child through an activity oriented learning program. We hope these measures will take us significantly further in the direction of a child-centred system of education.